अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद पहली बार पाकिस्तान पर हुआ हमला फायरिंग में दो जवानों की मौत

 

अफगानिस्तान

नई दिल्ली: तालिबान को अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज कराने में अहम भूमिका निभाने वाला पाकिस्तान अब खुद अपने यहां आतंकवाद की आग में झुलस रहा है। बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के चेक पोस्ट पर हुए हमले का आरोपी अफगानिस्तान से आया था। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रविवार को हुए इस धमाके में चार पाकिस्तानी सैनिकों की मौत हो गई थी, जबकि इसमें 19 लोग घायल हो गए थे।


यह भी पढ़े:-  सतना न्यूज़ : खाना बनाते समय झुलसी महिला, हादसे के बाद रीवा के संजय गाँधी में भर्ती कराया गया जहां बीती रात महिला की मौत हो गई।

रविवार को हुआ यह धमाका बलूचिस्तान में सुरक्षा बलों के चेक पोस्ट पर हुआ था। यह मुस्तांग रोड पर स्थित पोस्ट है। वहीं, पाकिस्तानी गृह मंत्री शेख रशीद ने भी कहा कि क्वेटा और ग्वादर में हुए धमाकों में शामिल आतंकी अफगानिस्तान से आए थे। क्वेटा में रविवार को हुए धमाके की जिम्मेदारी तहरीक-ए-तालीबान यानी टीटीपी ने ली थी। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने सैनिकों की चेक पोस्ट पर हुए इस हमले की निंदा की थी।


यह भी पढ़े:- Sidhi News: सीधी जिले के चुरहट में मवेशी को बचाने के चक्कर में अनियंत्रित ऑटो पलटने से युवक को रीवा ले जाया गया जहा उसकी मृत्यु हो गई

वहीं, अफगानिस्तान में अस्थिरता फैलाने और तालिबान का राज आने के बाद से पाकिस्तान भले ही खुशियां मना रहा है, लेकिन यह तय है कि देर से ही सही, मगर इसका नकारात्मक प्रभाव पाकिस्तान के लोगों को भी झेलना होगा। खासतौर पर बलूचिस्तान में आतंकी हमला होना पाकिस्तान की चिंता को अभी से बढ़ा सकता है।

पाकिस्तान ने तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के आकाओं से कई बार कहा कि वह तहरीक-ए-तालीबान पर लगाम कसे, मगर खुद तालिबान जब काबुल की सत्ता पर काबिज हुआ था, उसके कुछ घंटों बाद ही तहरीक-ए-तालीबान के आतंकी मुहम्मद रफीक को उसने जेल से रिहा कर दिया था। इसके बाद से ही माना जा रहा था कि पाकिस्तान की मुश्किलें बढऩे वाली हैं।


यह भी पढ़े:- RewaNews: रीवा जिले के नईगढ़ी थाना अंतर्गत नीबी 538 निवासी अश्वनी कुमार साकेत पुत्र रामसलोने साकेत की साइकिल से गिरने के कारण मौत हो गई

अफगानिस्तान पर तालिबान के काबिज हुए करीब तीन हफ्ते का समय बीत चुका है, लेकिन अभी तक वहां सरकार गठन को लेकर तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के बीच विवाद जारी है। खुद तालिबान में भी वर्चस्व की जंग हो रही है कि सरकार में सुप्रीमों की भूमिका किसकी होगी।

 वहीं, खबर यह है कि पाकिस्तान की मदद से ही एक छोटे-मोटे या यूं कह लें, जिसे दुनिया नहीं जानती, ऐसे में तालिबानी नेता मुल्ला हसन, अखुंद को राष्ट्रपति पद पर बैठाया जाएगा।, जिससे संगठन के दोनों धड़ों मे हो रही उठापटक पर विराम लगाया जा सके।


यह भी पढ़े:- पिता ने अपने 4 वर्षीय पुत्र को पीट पीट कर मौत के घाट उतार दिया माँ ने लगाया आरोप

Leave a Reply

Your email address will not be published.