डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत लेते जनरल मैनेजर गिरफ्तार



झाबुआ जिला:  M.P  में एक बार फिर एक और रिश्वतखोर अधिकारी पर लोकायुक्त की टीम ने शिकंजा कसा है। इस बार मामला आदिवासी बाहुल्य जिले झाबुआ का है जहां जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित के महाप्रबंधक डीआर सरोटिया को डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया गया है। 

यह भी पढ़े:- Rewa News Update: रीवा श्याम शाह मेडिकल कॉलेज के रिसर्च अस्पताल की लिफ्ट में मिला कंकाल, जानिए क्या था मामला

जनरल मैनेजर डीआर सरोटिया के खिलाफ जिले के कालिदेवी सहकारी केन्द्रीय बैंक के प्रबंधक वेलसिंह पलासिया ने लोकायुक्त से शिकायत की थी जिस पर कार्रवाई करते हुए लोकायुक्त ने रिश्वतखोर जनरल मैनेजर डीआर सरोटिया को रंगेहाथों गिरफ्तार किया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा राशि के लिए मांगी रिश्वत:

 झाबुआ जिले की कालिदेवी सहकारी केंद्रीय बैंक के प्रबंधक वेलिसिंह पलासिया ने शिकायत की थी कि जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के महाप्रबंधक डीआर सरोटिया प्रधानमंत्री फसल बिमा की राशि को लेकर रिश्वत की मांग कर रहे है। इसके लिये उन्होनें तीन लाख रूपये की मांग की थी और पूर्व मं डेढ़ लाख की एक किश्त ले चुके हैं। इसके बाद लोकायुक्त टीम ने महाप्रबंधक को रंगे हाथों पकडने के लिये प्लान बनाया और शनिवार सुबह जब वेलसिंह को पैसे लेकर आरटी सरोठिया के पास भेजा। जैसे ही सरोठिया ने रिश्वत के पैसे लिए तो लोकायुक्त की टीम ने उन्हें रंगेहाथों धरदबोचा। पुलिस प्रशासन की अच्छी पहल से रंगे हाथ गिरफ़्तार किया गया।


यह भी पढ़े:- Railway Update: भोपाल से खंडवा के बीच अब 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकेंगी ट्रेनें

शिकायत करने वाले ने क्या बोला:

यैसे मामले कई बार हो चुके है लेकिन रिश्वत लेना नहीं बंद हुआ पुलिस प्रशासन की अच्छी पहल से रंगे हाथ गिरफ़्तार किया गया। शिकायतकर्ता वेलसिंह पलासिया ने बताया कि रामा ब्रांच के अधीन आने वाली तीन सोसायटी के करीब 180 किसानों की बीमा राशि मंजूरी के लिए पोर्टल पर ऑनलाइन एंट्री की जानी है। 137 किसानों की राशि मंजूर कर पोर्टल पर अपलोड करने के एवज में महाप्रबंधक डीआर सरोटिया ने 3 लाख रुपए रिश्वत की मांग की थी, जिसमें से डेढ़ लाख रुपए आरोपी ने 19 अगस्त को दबाव बनाकर ले लिए और अब बाकी डेढ़ लाख रुपए की मांग की थी।


यह भी पढ़े:- सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के बाद सदमे में है शहनाज गिल बोली सिद्धार्थ ने मेरे हाथों में दम तोड़ा, अब मैं कैसे जिंदा रहूंगी



Leave a Reply

Your email address will not be published.