रीवा शहर इतिहास:


रीवा शहर बघेल खण्ड की राजधानी मानी जाती है। सन 1618 में रीवा शहर के  नरेश माने जाने वाले महाराजा विक्रमादित्य सिंह ने बांधवगढ़ को राजधानी का दर्जा ख़त्म कर के रीवा नगर को राजधानी बनाया| तथा इसे विस्तृत और स्थापित किया | रीवा शहर का पहले नाम रेवा था जिसे बदल कर रीवा कर दिया गया 1618 में रीवा को बड़े नगरों में गिना जाने लगा और इसे बड़ी राजधानी कहा जाने लगा रीवा शहर का इतिहास बहुत ही प्रसिद्द माना जाता है। 

रीवा में प्राचीन काल में इस भू-भाग में कर्चुली नरेशो का लगभग 12वी शताब्दी तक आधिपत्य रहा | इन्होने बहुत सारे बड़े भवन, मंदिर और बड़े बड़े जगहों का निर्माण किया। रीवा शहर में कला की कमी नहीं है और यह शहर मूर्तियों में कला का प्रदर्सन करता है यहाँ नृत्य और गायक की कला बहुत है बहुत ही शांत शहर माना जाता है। 

यहाँ के जंगल बहुत बड़े है और बाघों से पता चल जाता है की यह शहर बाघों के कारण अधिक प्रचलित शहर बन गया। इन जंगलो में वर्तमान समय में कई प्रकार के जंगली जानवर पाए जाते हैं | रीवा नरेश महाराजा मार्तण्ड सिंह जूदेव को राज प्रमुख बनाया गया| सबसे पहले महाराज बने जिन्होंने यह राज्य का कार्य भार सम्हाला और यह राज्य ज्यादा प्रसिद्द होने लगा।  

मध्य प्रदेश बहुत बड़ा राज्य है जिसके अंतर्गत रीवा शहर उसके अंदर शामिल है मध्य प्रदेश राज्य का गठन 1956 में हुआ था जब मध्य प्रदेश को राजधानी बनाया गया इसके अंडर बहुत बड़े शहर आते है जिसमे एक शहर(Rewa) है।  रीवा संभाग के अंतर्गत चार जिले रीवा, सतना, सीधी और सिंगरौली आते हैं, इस संभाग का संभागीय मुख्यालय रीवा हैं| मुख्यालय होने के कारण रीवा शहर बड़े राज्यों में गिना जाने लगा क्योकि यह संभाग बड़ा है। रीवा शहर का इतिहास यह कब संभाग बना और कब इसका गठन हुआ। 

प्राचीन काल से यहाँ सभी हिन्दू-मुस्लिम रहते चले आ रहे हैं, क्योकि यहाँ कोई भेद भाव नहीं है यहाँ बहुत तरह की जातिया निवास करती है। सभी एक दुसरे के प्रति गहरा सद्भाव रखते हैं | यहाँ के प्रमुख त्योहारो में दीवाली, बसंत पंचमी, दशहरा, शिवरात्रि, रामनवमी, होली, ईद, बकरीद आदि हैं बहुत तरह के त्यौहार बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाये जाते है यह शहर जंगलो और सबसे अधिक बाघों से प्रसिद्द है क्योकि यहाँ के राजा अपने साथ बाघ लेके चलते थे जिससे यह और भी शक्तिशाली रहते थे। 






रीवा जिले में कितनी तहसील ब्लॉक है

जिले के मुख्य अधिकारी कॉलेक्टर, BDO, SDM यह शहर के बड़े अधिकारी माने जाते है  जिले में 12 तहसीलें है हुज़ूर, रायपुर कर्चुलियान, मऊगंज, हनुमना, गुढ़, त्योंथर, सिरमौर, मनगवां, सेमरिया, जवा, नईगढ़ी वही रीवा शहर 9 ब्लॉक है जिसमे ( नईगढ़ी, रीवा, त्योंथर, सिरमौर, गंगेव, हनुमाना, जवा, मऊगंज, रायपुर कर्चुलियान वही रीवा शहर बड़े शहर में गिना जाता है वर्तमान में इस शहर ने बहुत तरक्की कर ली है बड़े मार्केट और बहुत सरे बड़े कार्य हुए है जिससे यह सिटी बहुत प्रसिद्द हो गई है रीवा शहर में कितने तहसील है और ब्लॉक  कितने है सब यहाँ से पढ़े। 

रीवा जिले में कितनी तहसील है

Tahsil And Villages

seriel number Name of Tahsil Name of Villages
1 Huzur 154
2 Hanumana 343
3 Mauganj 344
4 Naigarhi 383
5 Teonthar 309
6 Raipur Karchuliyan 115
7 Mangawan 301
8 Semaria 192
9 Sirmour 192
10 Gurh 136
11 Jawa 265
Total 2817

Leave a Reply

Your email address will not be published.