मध्यप्रदेश के सभी सरकारी बैंक की करीब 7 हजार ब्रांचों में 16 और 17 दिसंबर को ताले लगे रहेंगे। लगभग 40 हजार बैंककर्मियों के 2 दिन की हड़ताल पर जाने से यह हालात बनेंगे। भोपाल के करीब 5 हजार बैंककर्मी इस हड़ताल में हिस्सा लेंगे और बैंकों के निजीकरण को लेकर किए जा रहे प्रयासों का विरोध जताएंगे। शनिवार को बैंक जरूर खुलेंगे, लेकिन रविवार को छुट्‌टी होने से फिर बंद हो जाएंगे। ऐसे में 20 दिसंबर को ही बैंकों में बेहतर कामकाम होगा।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के आह्वान पर यह देशव्यापी हड़ताल रहेगी। यूनियंस के को-ऑर्डिनेटर वीके शर्मा और संयोजक संजीव सबलोक ने बताया, देशव्यापी हड़ताल में मध्यप्रदेश के सभी बैंकों के अधिकारी-कर्मचारी हिस्सा लेंगे। राजधानी भोपाल में 300 ब्रांच में भी ताले लटके रहेंगे।

इसलिए रहेगी हड़ताल

यूनियंस के को-ऑर्डिनेटर शर्मा ने बताया कि सरकार बैंकों के निजीकरण को लेकर लगातार प्रयास कर रही है। इसका देशभर में विरोध किया जा रहा है। इसलिए 16 और 17 दिसंबर को हड़ताल करके सरकार को चेताएंगे। यदि सरकार ऐसे प्रयास नहीं रोकती है तो आगे भी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं।

4 दिन में सिर्फ 1 दिन ही मिलेगा

बैंक हड़ताल के चलते लोगों ने 15 दिसंबर को ही अपने जरूरी काम निपटा लिए थे। दूसरी ओर एटीएम में भी बैंकों द्वारा पर्याप्त राशि रखी गई। ऐसे में हड़ताल के पहले दिन एटीएम में रुपए खत्म होने की गुंजाईश नहीं रहेगी, लेकिन दूसरे दिन जरूर कुछ दिक्कतें खड़ी हो सकती है। 2 दिन की हड़ताल के बाद बैंक शनिवार को खुलेंगे। ऐसे में 16 से 19 दिसंबर के बीच सिर्फ 1 दिन ही मिलेगा, जब लोग अपने बैंक से जुड़े जरूरी काम कर सकेंगे।

इंश्योरेंस एसोसिएशन का समर्थन

बैंककर्मियों की हड़ताल को ऑल इंडिया इंश्योरेंस एम्प्लाइज एसोसिशन (एआईआईईए) ने समर्थन दिया है। भोजन अवकाश के दौरान इंश्योरेंस कर्मचारी भी एकजुट होकर प्रदर्शन करेंगे। भोपाल मंडल के अंतर्गत भोपाल शहर के मध्य क्षेत्रीय एवं सभी 9 कार्यालय समेत सीहोर, रायसेन, विदिशा, गंजबसौदा, होशंगाबाद, इटारसी, हरदा, पिपरिया, बरेली, ब्यावरा, शाजापुर, शुजालपुर, बैतूल, पाथाखेड़ा आदि कार्यालय में कर्मचारी भोजन अवकाश में प्रदर्शन कर बैंक कर्मचारी और अधिकारियों के साथ एकजुट होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.