रीवा जिले के मनगवां थाना अंतर्गत कटहा नाले में तीन लोगों को खोने वाले परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। एसजीएमएम पीएम कराने पहुंचे परिजनों की माने तो अंधा मोड़ के कारण तीन जिदंगियां पानी में डूब गई है। इस हादसे में पत्नी और बेटी को खोने वाला सदमे में है। जबकि भांजा इकलौता लड़का था। इकलौते बेटे के मौत की खबर सुनकर मां बेहोश है।

मृतक के परिजनों का दावा है कि नाले में बाइक गिरने से पहले किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मारी थी। ​क्योंकि मृतक लड़की के पेट में गंभीर चोट थी। जख्म देखने से लगता है कि किसी वाहन का ठोकर लगने के बाद बाइक अनियंत्रित होकर नाले में समा गई थी। फिलहाल गंगेव चौकी पुलिस ने सोमवार की दोपहर 3 बजे मृतकों के शव पीएम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिए है।

रीवा में सास-ससुर और पति कर रहे थे प्रताड़ित, परेशान महिला ने​ किया खुद को आग के हवाले, मौत के मामले पुलिस ने पति, सास व ससुर को गिरफ्तार कर लिया

पत्नी-बेटी को खोने वाले योगेन्द्र क्या बोले


रविवार की दोपहर 3 बजे कटहा नाले में पत्नी और बेटी को खोने वाले योगेन्द्र विश्वकर्मा (40) निवासी कटहा ने दैनिक भास्कर से रोते बिलखते हुए घटना की कहानी बताई। उसने कहा कि भांजा पीयूष विश्वकर्मा पुत्र पुष्पेन्द्र विश्वकर्मा (20) निवासी बेलवा रविवार की दोपहर 12 बजे बेटी के बीमार होने पर उसको गांव बुलवाया था।

घर पर पत्नी ने बनाई दाल तो पति ने मार दी गोली, पत्नी की हत्या करने के बाद वह थाने पहुंचे और आत्मसमर्पण कर दिया

वह बाइक क्रमांक एमपी 17 एनए 3682 में सवार होकर अपनी मामी रेनू विश्वकर्मा (32) और ममेरी बहन निधि विश्वकर्मा (8) को दिखाने गंगेव ​स्थित क्लीनिक गया था। जहां चिकित्सक से बुखार का इलाज कराकर पुन: दोपहर 3 बजे के आसपास घर लौट रहा था। लेकिन गांव से पहले कटहा नाले के पास बाइक अनियंत्रित होकर सड़क से लगे स्टाप डैम में गिर गई।

Rewa News

जिससे तीनों लोग डूब गए। हादसा स्थल के आसपास मौजूद लोगों ने शुरूआत में जल्दबाजी नहीं दिखाई। करीब एक घंटा गुजर गया तब गांव वालों को पता चला। ऐसे में परिवार के लोगों को सूचना दी। जानकारी के बाद पूरा गांव टूट पड़ा। इसके बाद स्थानीय गोताखोरों की मदद तीनों को निकाला गया। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

फिर भी गांव वालों की मर्जी से पहले शाम 5 बजे गंगेव अस्पताल लेकर पहुंचे। लेकिन कई लोगों को सांस चलने की आशंका थी। ऐसे मे रात 8 बजे रीवा संजय गांधी अस्पताल लेकर पहुंचे। ​यहां आकस्मिक चिकित्सा इकाई के चिकित्सकों ने नब्ज टटोलते ही मृत घोषित कर दिया। इसके बाद तीनों की डेड बॉडी मर्चुरी में रखा दी गई थी। अब सोमवार की दोपहर करीब 3 बजे के आसपास पीएम हुआ है।

बहन के घर का बुझ गया चिराग

रोते हुए योगेन्द्र विश्वकर्मा ने कहा कि मैं तो सब कुछ खो दिया। लेकिन मेरी बहन ममता विश्वकर्मा (42) और बहनोई पुष्पेन्द्र विश्वकर्मा (45) निवासी बेलवा के घर का चिराग ही बुझ गया। शायद मैं उसको इलाज कराने के लिए न बुलवाता तो आज वह सुरक्षित होता। अब मैं बहन के पास क्या मुंह लेकर, कैसे जाउंगा।

नाले में बाइक गिरने से पहले टक्कर लगने की आशंका
संजय गांधी अस्पताल पीएम कराने पहुंचे कटहा के ग्रामीणों ने कहा कि नाले में बाइक के गिरने से पहले किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मारी है। पोस्ट मार्टम के समय निधि विश्वकर्मा के पेट के पास गहरे जख्म है। ऐसे में आशंका है​ कि किसी चार पहिया वाहन ने तेजी से कट मारा है। जिससे सड़क के किनारे बने नाले के स्टाप डैम में तीनों लोग डूब गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.