ADGP ने किया बर्खास्त

रीवा जिले के मऊगंज थाना अंतर्गत महिला की हत्या पर गलत विवेचना करने वाले तत्कालीन थाना प्रभारी निरीक्षक हरीश दुबे और सहायक उपनिरीक्षक दान सिंह परस्ते को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। जबकि सहायक उपनिरीक्षक प्रमोद पाण्डेय को दोष मुक्त कर​ दिया है। उक्त कार्रवाई सिंगरौली एसपी वीरेंद्र सिंह की जांच रिपोर्ट पर आईजी रीवा जोन केपी वेंकटेश्वर राव ने की है।

बता दें कि निरीक्षक हरीश दुबे गीत संगीत के बड़े शौकीन है। अक्सर सोशल मीडिया में वीडियो डालकर चर्चा में रहते है। साथ ही पेंटिंग बनाने की कला में माहिर है। वे ज्यादातर अधिकारियों को उनका चेहरा पेंटिंग के माध्यम से प्रस्तुत कर चुके है। साथ ही पौराणिक धरोहरों के संरक्षण में ध्यान देते थे।

यह भी पढ़े:- रीवा: शिल्पी प्लाजा में रेस्टोरेंट में आग लगने से मचा हड़कंप, दमकल ने पाया काबू

गौरतलब है कि संगीता कोल की चार वर्ष पहले गला दबाकर हत्या कर दी गई थी। लेकिन परिजनों ने साक्ष्य छुपाने के लिए मिट्टी का तेल डालकर जला दिया था। ज​बकि पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में डॉक्टर ने ‘केस ऑफ डेथ ड्यू टू स्ट्रगुलेशन’ लिखा था। मतलब स्पष्ट था कि मृतका की हत्या गला दबाने से हुई है। फिर भी तत्कालीन मऊगंज थाना प्रभारी निरीक्षक हरीश दुबे ने गलत विवेचना की।

फिर मऊगंज थाना के मर्ग क्रमांक 31/17 धारा 174 जौ.फौ. में 3 वर्ष विलंब से अपराध कामय किया था। देर से मुकदमा दर्ज होने पर तत्कालीन रीवा एसपी ने एएसपी मऊगंज से जांच कराई तो तत्कालीन मऊगंज थाना प्रभारी निरीक्षक हरीश दुबे, ASI दान सिंह परस्ते और ASI प्रमोद पाण्डेय को दोषी पाया गया।

तत्कालीन आईजी ने किया था निलंबित:

तत्कालीन आईजी चंचल शेखर ने 22 जुलाई 2020 को एएसपी मऊगंज 02/2020 का अवलोकन किया था। तब तीनों दोषी पाए गए थे। ऐस में 27 जुलाई 2020 को तत्कालीन सतना जिले के जैतवारा थाना प्रभारी निरीक्षक हरीश दुबे को निलंबित कर दिया था। वर्तमान समय में हरीश दुबे सतना जिले के अमदरा थाना प्रभारी थे।

यह भी पढ़े:- आरोपी का नहीं लगा सुराग: हथकड़ी समेत फरार हुए NDPS एक्ट के आरोपी का कहीं सुराग नहीं लगा है 3 पुलिस वाले सस्पैंड

सिंगरौली एसपी ने पूरी की जांच:

बता दें कि महिला की हत्या पर गलत विवेचना करने के बाद पुलिस मुख्यालय भोपाल द्वारा मामले की जांच सिंगरौली एसपी वीरेंद्र सिंह को सौंपी गई थी। उन्होंने हर पहलुओं की बारीकी से जांच करने के बाद बीते दिन अपनी रिपोर्ट रीवा जोन के आईजी एवं एडीजीपी केपी वेंकटेश्वर राव को सौंपी थी। तब आईजी ने जांच रिपोर्ट पढ़ने के बाद निरीक्षक हरीश दुबे और ASI दान सिंह परस्ते को पुलिस सेवा से बर्खास्त करने का आदेश जारी किया है। जबकि ASI प्रमोद पाण्डेय को दोष मुक्त पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.