रीवा लोकायुक्त ने 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते प्राचार्य को ट्रैप किया है। लोकायुक्त सूत्रों की मानें तो डीए का एरियर एवं वेतन वृद्धि लगाने के एवज में 10 हजार रुपए मांगे थे। बाद में प्राचार्य 5 हजार रुपए में भृत्य को मना लिया था। लेकिन बिना पैसे लिए काम करने को तैयार नहीं था। ऐसे में थक हारकर पीड़ित भृत्य ने लोकायुक्त कार्यालय पहुंचकर एसपी से शिकायत की।

आवेदन का सत्यापन कराने पर शिकायत सही पाया गया। ऐसे में 13 दिसंबर की दोपहर कॉलेज परिसर के अंदर प्राचार्य कक्ष से 5 हजार रुपए की रकम के साथ पकड़ लिया है। अब आगे की कार्रवाई के लिए लोकायुक्त टीम प्राचार्य को लेकर मनगवां विश्राम गृह पहुंची है। जहां आरोपी प्राचार्य के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई जारी है।

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि सोमवार की दोपहर 12.30 बजे (शासन द्वारा मान्यता प्राप्त) राजभान सिंह स्मारक महाविद्यालय मनिकवार के प्राचार्य डॉ. अशोक कुमार पीढिया को उनके कक्ष से 5 हजार रुपए की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया है।

यहां आरोपी प्राचार्य द्वारा अपने कॉलेज के ही भृत्य राम करण वर्मा से डीए का एरियर एवं वेतन वृद्धि लगाने के एवज में 5 हजार रुपए की रिश्वत की मांग की गई थी। ऐसे में लोकायुक्त निरीक्षक प्रेमेंद्र कुमार ने अपने सहयोगी डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार के नेतृत्व में 15 सदस्यीय टीम ने डॉ. अशोक कुमार पिढिया को 5 हजार की रकम लेते हुए रंगे हाथों ट्रेप कर लिया।

दिसंबर माह की दूसरी कार्रवाई


बता दें कि लोकायुक्त रीवा पुलिस की दिसंबर माह की यह दूसरी कार्रवाई है। इसके पूर्व 9 दिसंबर को चोरहटा थाने के आरक्षक अनुरोध तिवारी को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा गया था। इसी दिन रात में एसपी नवनीत भसीन द्वारा आरक्षक को निलंबित कर दिया गया था।

नवंबर माह में हुई थी पांच ट्रैपिंग


लोकायुक्त एसपी ने नवंबर माह में 5 ट्रैपिंग की कार्रवाई की थी। पहली कार्रवाई गोविंदगढ़ थाना प्रभारी एसएस बघेल व एएसआई देशराज सिंह को 13 हजार की रिश्वत, दूसरी ट्रैपिंग दिलीप सिंह परस्ते पटवारी हल्का भरौली वृत अमदरा तहसील मैहर जिला सतना को 5 हजार लेते पकड़ा था।

इसी तरह सचिव रावेंद्र पटेल ग्राम महुगड़ा पोस्ट कुलबहेलिया तहसील थाना मऊगंज 15 हजार रुपए, वनरक्षक आशीष यादव गुझियारी टोला वार्ड नंबर 9 गोविंदगढ़ को 6 हजार और 30 हजार की रिश्वत मामले में राहुल खरे सहायक वित्त अधिकारी मध्य प्रदेश पाठ्य पुस्तक निगम भोपाल और आरसी मिश्रा प्रबंधक पाठ्य पुस्तक निगम रीवा को आरोपी बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.