साल के अंत तक ला सकती है Flipkart IPO:

वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट अपना बहुप्रतीक्षित इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) अगले साल नवंबर या दिसंबर के महीने में ला सकती है। हालांकि यह आईपीओ भारत में सूचीबद्ध नहीं है, लेकिन विदेशी स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध है। फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति के हवाले से कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है।

बाजार की हालत कैसी रहेगी:

वहीं, एक अंग्रेजी बिजनेस अखबार की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अगर बाजार के हालात कंपनी के अनुकूल नहीं रहे तो इस आईपीओ को मार्च 2023 तक खींचा जा सकता है। अखबार ने कहा कि कृष्णमूर्ति ने हाल ही में अपने कुछ लोगों के साथ बैठक की थी। कंपनी के चुनिंदा ग्रुप एग्जिक्यूटिव्स में आईपीओ को लेकर यह चर्चा हुई। कंपनी अगले साल जनवरी-मार्च तिमाही में प्री-आईपीओ राउंड आयोजित करने पर भी विचार कर रही है ताकि शेयर बाजार में आने से पहले अपना सही मूल्यांकन स्थापित कर सके।

मूल्यांकन के लिए इकट्ठा होगा निवेश:

बेंगलुरू मुख्यालय वाली फ्लिपकार्ट ने इस साल जुलाई में 37.6 अरब डॉलर के मूल्यांकन पर 3.6 अरब डॉलर जुटाए। इस फंडिंग राउंड में सबसे बड़ा निवेश सिंगापुर मुख्यालय वाले जीआईसी, कनाडा पेंशन प्लान इन्वेस्टमेंट बोर्ड , सॉफ्टबैंक विजन फंड 2 और वॉलमार्ट से किया गया था। टाइगर ग्लोबल और कतर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी सहित अन्य प्रमुख निवेशकों ने भी दौर में भाग लिया।

वॉलमार्ट ने 2018 में फ्लिपकार्ट में 77 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी, जिसके बाद इसके संस्थापक सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने इस्तीफा दे दिया था। वॉलमार्ट की फिलहाल फ्लिपकार्ट में 75 फीसदी हिस्सेदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.