रीवा जिले के बिछिया थाना अंतर्गत लक्ष्मणपुर गांव में बीते दिन आग में झुलसने से एक महिला की मौत हो गई। आगजनी की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। जहां मायके पक्ष के लोगों ने ​पुलिस के सामने दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया। दावा किया था कि उसने खुद आग नहीं लगाया है।

बल्कि उसको मजबूर कर दिया गया है। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 498 ए, 304 बी और 3/4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है। न​वविवाहिता की मौत के मामले पुलिस ने पति, सास व ससुर को गिरफ्तार कर लिया है।

मिली जानकारी के मुताबिक विश्वविद्यालय थाना अंतर्गत दोही निवासी आरती साकेत (20) की शादी एक साल पूर्व लक्ष्मणपुर निवासी आशीष साकेत के साथ हुई थी। शादी के कुछ माह बाद ही ससुराल वाले महिला को दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे।

थक हारकर महिला ने बीते दिनों खुद को आग के हवाले कर लिया। जानकारी के बाद ससुराल पक्ष के लोग अस्पताल लेकर पहुंचे। लेकिन उपचार के दौरान मौत हो गई। महिला के मौत की जानकारी जैसे ही मायके पक्ष के लोगों को हुई तो वह घर पहुंचकर बवाल मचाने लगे।

मायके पक्ष के लोगों ने पति आशीष साकेत, ससुर जगदीश साकेत और सास के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। जांच में पता चला कि आरोपी ससुराल वाले महिला को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया करते थे। इसी प्रताड़ता से तंग आकर गत दिवस आग लगा कर अपनी जान दे दी।

मायके पक्ष का आरोप
महिला के मायके पक्ष के लोगों की मानें तो आए दिन ससुराल वाले परेशान करते थे। समय-समय पर प्रताड़ना की बात बेटी फोन के माध्यम से अपने परिजनों को बताती थी। परिजनों ने बताया कि शायद ही ऐसा कोई दिन जाता हो। जब परिजन महिला को मानसिक और शारीरिक रूप से परेशान न करते हों। जब महिला के सहने की क्षमता समाप्त हो गई तो उसने आत्महत्या कर ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published.