17 माह के मासूम की हत्या: प्रेमी पर लगा पड़ोसी से अफेयर का शक, जलन में महिला की बेटी की हत्या

बुरहानपुर में खुशी बोदड़े हत्याकांड में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। 17 माह की मासूम खुशी की उसके पड़ोस में रहने वाली महिला ने हत्या कर दी। आरोपी महिला ने पहले उसका अपहरण किया, फिर साड़ी से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी और शव को बोरे में फेंक कर पास के कुएं में फेंक दिया। महिला ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसका प्रेमी मासूम खुशी को दुलारता था। जो उसे पसंद नहीं था। महिला को यह भी शक था कि उसके प्रेमी का खुशी की मां के साथ भी अफेयर चल रहा है। प्रेमी को अपना ही रखने की चाह में आरोपित महिला ने मासूम खुशी की हत्या कर दी।

एसपी राहुल कुमार लोढ़ा ने हत्या का खुलासा करते हुए बताया कि 23 दिसंबर 2021 को दिलीप बोडडे निवासी इच्छापुर ने 17 माह की बेटी खुशी उर्फ ​​रुशाली के अपहरण की शिकायत दर्ज कराई थी. 25 दिसंबर को खुशी का शव घर से कुछ दूरी पर टूटे कुएं में बोरे में बंधा मिला था।

जांच में पता चला कि खुशी के घर के सामने रहने वाले नितिन महाजन का पड़ोसी अलका बाई के साथ अफेयर है। घर में आमने-सामने होने के कारण नितिन और खुशी की मां मंगला के बीच बातचीत होने लगी। अलका को शक था कि नितिन और मंगला के बीच कुछ तो है। इस बात को लेकर अलका और मंगला के बीच भी विवाद हुआ था। साथ ही नितिन अलका की बेटी की जगह मंगला की बेटी खुशी को दुलारते थे। इसी वजह से वह नितिन को पेट में खुशी खिलाने और घर ले जाने से रोकती थी। हालांकि नितिन उनकी बातों को अनसुना कर देते थे।

गुमराह करने के लिए गोलू का नाम लिखकर खत फेंकना


पुलिस के मुताबिक 23 दिसंबर को संदिग्ध अलका मराठा के मोबाइल की कॉल डिटेल भी निकाली गई थी. पूछताछ के लिए बुलाया तो वह गुमराह करने लगी। इतना ही नहीं खुशी का शव मिलने के बाद उसने रितेश उर्फ ​​गोलू बोड्डे के नाम से एक पत्र लिखकर कुएं के पास फेंक दिया। उसने ऐसा इसलिए किया ताकि अनजान लड़के को शक हो जाए। पुलिस ने शक के आधार पर अलका को हिरासत में ले लिया और सख्त होने पर वह टूट गई। उसने बताया कि उसे नितिन और मंगला के बीच अफेयर का शक था। इस बात को लेकर उनका नितिन से विवाद भी हुआ करता था। उन्हें नितिन का खुशियों में घुलना-मिलना भी पसंद नहीं था।

विवाद के चलते नितिन ने बंद की बात कही


20 दिसंबर को अलका और नितिन का सोशल मीडिया पर मंगला और उनकी बेटी खुशी को लेकर विवाद हो गया था। गुस्से में आकर नितिन ने अलका से बात करना बंद कर दिया। इससे अलका इतना नाराज हो गईं कि उन्होंने खुशी को रास्ते से हटाने की साजिश रची। उसे लगा कि ऐसा करने से मंगला और नितिन की बात बंद हो जाएगी।

पति को शादी के लिए भेजा और खुशियों को मार डाला


23 दिसंबर को अलका अपने पति सुनील मराठा के साथ एक रिश्तेदार के यहां बुलढाणा शादी में शामिल होने वाली थी। हालांकि, उसने बहाना बनाया और अपने पति को वहां अकेले भेज दिया। अलका को सुबह करीब 11:30 बजे खुशी बाहर मिली। उस समय बाहर कोई और नहीं था। सो वह उसे उठाकर घर ले आई। यहां उसने मासूम की साड़ी से गला घोंटकर हत्या कर दी। मरने के बाद दोपहर में शव को बोरे में भरकर पास के खंडहर में कुएं में फेंक दिया.

एसपी लोढ़ा ने बताया कि पुलिस ने साक्ष्यों व बयानों के आधार पर माली मोहल्ला इच्छापुर निवासी अलका के पति सुनील मराठा को गिरफ्तार किया है. हत्या में प्रयुक्त साड़ी, फेंका गया पत्र, जब्त कर लिया गया है। हस्तलिपि मिलान के लिए नमूने भोपाल भेजे गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *