सतना पुलिस को 6 सालों से चकमा दे रहा छोटू उर्फ पिंटू कोलव को धारकुंडी थाना पुलिस ने रीवा जिले के जबा गांव से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पिंटू 65 हजार का इनामी था। वो नाम बदल कर पुलिस को चकमा देकर फरार था। बदमाश पर एमपी पुलिस ने 15 हजार और यूपी पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित किया था। आरोपी बलखड़िया और सुंदर पटेल गैंग का सक्रिय सदस्य है। जो 2015 से भूमिगत था।

आरोपी पिटूं पर एक दर्जन से ज्यादा डकैती के मामले दर्ज थे और कोर्ट ने उसके खिलाफ स्थाई वारंट जारी कर रखा था। आरोपी ने धीरज कोल के नाम से फर्जी दस्तावेज बनाए और प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेकर घर पर छुपा हुआ था। जिसकी सूचना मिलते ही सतना पुलिस ने रीवा के जबा गांव में दबिश देकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पिंटू 2008 से 2015 तक डकैत बलखड़िया और सुंदर गिरोह का सदस्य रहा। आरोपी ने 2009 में बिछियन गांव के 13 लोगों का नरसंहार किया था। साल 2009 से 2015 तक सुंदर और बलखड़िया गिरोह से जुड़ा और एनकाउंटर के बाद भूमिगत हो गया था।

SP धर्मवीर सिंह ने बताया कि सतना पुलिस ने तराई अंचल में पांच सालों तक दहशत फैलाने वाले डकैत पिंटू कोल को आखिरकार ढूंढ कर गिरफ्तार कर ही लिया। आरोपी से पुलिस की पूछताछ जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.