बन रहा है देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे Madhya Pradesh के इन जिलों से गुजरेगा, देख कर हैरान हो जाएंगे आप

Madhya Pradesh Delhi Mumbai Expressway

Madhya Pradesh Delhi Mumbai Expressway

मध्य प्रदेश दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे समाचार: देश का सबसे लंबा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे मध्य प्रदेश (रतलाम), मंदसौर (मंदसौर) और झाबुआ (झाबुआ) के तीन जिलों से 1380 किलोमीटर में बनेगा। जब यह आठ लेन का एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो जाएगा तो इन दोनों मेट्रो शहरों का सफर महज 12/12/5 घंटे में पूरा हो जाएगा। पहले चरण में दिल्ली से मुंबई तक 8-लेन हाईवे का निर्माण कार्य चल रहा है। भविष्य में दूसरे चरण में ट्रैफिक बढ़ने पर इसे 12 लेन में बदला जाएगा।

यह भी पढ़े: 80 फीट ऊंची टंकी पर चढ़ा परिवार 24 घंटे बाद टंकी से उतरा, मांगे मानने की बात कही तो उतरी फैमिली

(Madhya Pradesh Delhi Mumbai Expressway Route)

मध्य प्रदेश में एक्सप्रेस-वे की लंबाई 250 किमी होगी। इसमें से 106 किमी का काम पूरा हो चुका है। शेष 143 किमी सड़क के निर्माण कार्य को पूरा करने में करीब 11 माह का समय लग सकता है। तदनुसार, मध्य प्रदेश में सड़क का निर्माण नवंबर 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। वर्तमान में, मध्य प्रदेश में 8,500 करोड़ की लागत से राजमार्ग का निर्माण कार्य चल रहा है। दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे मध्य प्रदेश में मेघनगर के पास वडोदरा से अनस नदी के पास राज्य में प्रवेश करेगा। फिर यह थांदला, सैलाना, खेजड़िया, शामगढ़, गरोठ, भवानी मंडी, कोटा होते हुए दिल्ली पहुंचेगी।

यह फायदा होगा मध्य प्रदेश को

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे मध्य प्रदेश के लिए विकास का इंजन साबित होगा। यह उज्जैन, देवास, इंदौर और गरोठ को भी जोड़ेगी। मध्य प्रदेश में इस एक्सप्रेस-वे में 8 चौराहे बनाए जाएंगे, जिससे राज्य की सड़कों को जोड़ा जाएगा।

यह भी पढ़े: पीएम मोदी के हाथों 20 मिनट के भीतर होगा काशी धाम का लोकार्पण, शुभ मुहूर्त दोपहर 1.37 से 1.57 बजे तक

मालवा होगा प्रगति शील रास्ता

मध्य प्रदेश के तीनों जिलों में एक्सप्रेस-वे की लंबाई (झाबुआ में 50.5 किमी, रतलाम में 91.1 किमी और मंदसौर में 102.8 किमी) लगभग 244 किमी होगी। झाबुआ के तलवाड़ा से महुदी का मल तक एक्सप्रेस-वे रतलाम में प्रवेश करेगा। रावती, सैलाना, पिपलोदा और जावरा के कुम्हार मंदसौर के लसूदिया से मंदसौर जिले के लिए जाएंगे. दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे रतलाम जिले के 87 गांवों से होकर गुजरेगा।

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे का जंक्शन मंदसौर जिले के गरोठ में बनाया जा रहा है। रतलाम-मंदसौर-झाबुआ जिले के 130 से अधिक गांवों में 2500 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है. गरोठ और जावरा में लॉजिस्टिक हब स्थापित किया जाएगा। बसई के पास जमीन पर उद्योग लगाए जाएंगे। इसी तरह कई जगहों पर कंटेनमेंट जोन भी बनाए जा सकते हैं। यह एक्सप्रेस मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में प्रगति के रास्ते खोलेगी।

यह भी पढ़े: Sidhi News: खाना बनाते समय साड़ी में आग लगने से झुलसी महिला, रीवा संजय गांधी रेफर किया गया, उपचार के दौरान हुई मौत

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया पूरा आंकलन

इस एक्सप्रेस-वे पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से कार चलाई थी। उन्होंने मध्य प्रदेश के रतलाम में सितंबर महीने में इस एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण किया था. सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से ईंधन की खपत में 32 करोड़ लीटर की कमी आएगी। जिससे पर्यावरण को भी फायदा होगा। यह एशिया का पहला और दुनिया का दूसरा एक्सप्रेसवे होगा जहां बिना किसी रोक-टोक के वन्यजीवों की आवाजाही जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *