Rewa Crime: सट्टा खेलने के आदी युवक के लूट की कहानी निकली फर्जी बैंक से निकाले घर के 2.23 लाख रुपए, बचा पैसा दोस्त के घर में रख रच दी लूट की कहानी

सट्टा खेलने के आदी युवक के लूट की कहानी निकली फर्जी

रीवा जिले के जनेह थाना अंतर्गत दमौती गांव के युवक द्वारा रची गई लूट की कहानी का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस की मानें तो शातिर युवक सट्टा खेलने के आदी था। ऐसे में उसने घर के 2.23 लाख रुपए कैश निकाले। फिर 32 हजार रुपए आईपीएल के सट्टे का कर्ज उतार दिया।

साथ ही बचा हुआ 1 लाख 93 हजार रुपए दोस्त के घर में रखकर फर्जी लूट की कहानी परिजनों को बताई। फिर परिजन रात में थाने पहुंचे। हरकत में आई जनेह पुलिस ने 24 घंटे के अंदर लूट को फर्जी साबित करते हुए 1 लाख 93 हजार रुपए रिकवर कर लिया। अब जनेह पुलिस आगे की कार्रवाई के लिए विधिक सलाह ली जा रही है।

जनेह थाना प्रभारी प्रदीप सिंह ने बताया कि भूपेन्द्र सिंह पुत्र कमलेश सिंह (25) निवासी दमौती अपने परिजनों के साथ सोमवार की रात 8.20 बजे लूट की शिकायत करने थाने में पहुंचा। फरियादी ने शिकायती आवेदन में कहा था कि सूती रेस्ट हाउस के पास शाम 5 बजे तीन अज्ञात आरोपियों ने 2.23 लाख रुपए लूटे है। बड़ी वारदात की आशंका को देखते हुए थाना प्रभारी ने वरिष्ठ अधिकारियों को पूरे मामले से अवगत कराया।

साथ ही साइबर सेल की मदद से घटनास्थल के आसपास की लोकेशन ट्रेस की गई। साथ ही उसके दोस्त के मोबाइल को ट्रेक किया गया। पुलिस की पड़ताल में पता चला कि फरियादी सट्टा खेलने का आदी था। साथ ही उसके बयान हर बार बदल रहे है। वहीं घटना स्थल के पास लूट जैसा स्थान नहीं है। ऐसे में पुलिस को युवक की कहानी पर संदेह हुआ।

यह भी पढ़े:- South Super Movie: फिल्म ‘लाइगर’ में विजय देवरकोंडा के साथ नजर आएंगे महान बॉक्सर माइक टायसन

पुलिस के सवालों में फंसता गया फरियादी

फरियादी से जब जनेह पुलिस ने पूछताछ शुरू की तो वह पुलिस के सवालों में फंसता गया। साथ ही प्रश्नों का सही तरीके से जवाब नहीं दे पा रहा था। युवक ने अपने दोस्त अंकित सिंह निवासी गजरिया थाना बरगढ़ जिला चित्रकूट के घर बैंक से पैसे निकालने के बाद जाना बताया। दावा किया कि दोस्त से मिलने के बाद जब घर जा रहा था तभी रास्ते में लूट हुई है।

लोकेशन निकली गलत

भूपेन्द्र द्वारा पुलिस को लूट की जो लोकेशन बताई गई थी वह लोकेशन डायल 100 की है। यहां पर पुलिस का आना-जाना बना रहता है। संबंधित स्थान पर लूट की घटना को अंजाम देना काफी मुश्किल है। लूट की शिकायत संदेहास्पद होने पर पुलिस ने सायबर सेल की मदद से अंकित को दबोचा। अंकित के घर से पुलिस ने फरियादी द्वारा बताए गए 2 लाख 23 हजार रुपयों में 1 लाख 93 हजार रुए बरामद कर लिया। अंकित ने पुलिस को बताया कि भूपेन्द्र और हम पैसे को हजम करने वाले थे। इसीलिए दोनों ने मिलकर लूट की फर्जी शिकायत थाने में की थी।

32 हजार का सट्टा क्रिकेट में लगाया

जनेह पुलिस ने बताया कि जांच में पता चला है कि युवक भूपेन्द्र को सट्टा खेलने की लत है। उसने यूपी जाकर 32 हजार का सट्टा क्रिकेट में लगाया है। अगर समय रहते पुलिस मामले का खुलासा नहीं करती तो बाकी के बचे रुपयों का भी वह सट्टा खेल लेते। हालांकि सट्टा खेलने की जानकारी युवक के परिजनों को नहीं थी। इसलिए मौका फायदा उठाकर फर्जी कहानी बनाते हुए खुद के सवालों में ही पुलिस के सामने उलझकर फंस गया।

यह भी पढ़े:- U.P: असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा शुरू परीक्षा तीन तीन चरणों में 30 अक्टूबर को 13 व 28 नवंबर को प्रदेशभर में आयोजित की जाएगी।

मामला दर्ज नहीं, पुलिस ले रही विधिक राय

जनेह थाना प्रभारी ने बताया कि लूट की फर्जी शिकायत करने वाले युवक और उसका साथ देने वाले दोस्त के खिलाफ अभी किसी तरह का प्रकरण पंजीबद्ध नहीं किया है। उक्त दोनों युवकों के खिलाफ क्या प्रकरण बनता है, उनके खिलाफ क्या कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए विधिक राय ली जाएगी। विधिक राय के बाद अगर प्रकरण बनता है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.