Chhattisgarh News: रायपुर में ट्रैफिक के लिए समस्या बन गया यह अधूरा निर्माण, समाधान पर काम करें भाजपा-कांग्रेस

छत्तीसगढ़ राजधानी रायपुर में विवादित स्काईवॉक के मुद्दे पर जेसीसीजे भी कूद पड़ा है. पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता भगवानु नायक के मुताबिक स्काईवॉक को गिराने से ही लोगों को राहत मिलेगी. उन्होंने बीजेपी और कांग्रेस पर मामला सुलझाने के बजाय सिर्फ राजनीति करने का आरोप लगाया है.

भगवान नायक ने कहा, भाजपा के कार्यकाल में रायपुर मेडिकल कॉलेज से शास्त्री चौक तक स्काईवॉक बनाने का निर्णय लिया गया था. इस वजह से करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद भी यह ढांचा बिना काम के अधूरा पड़ा है। यह स्काईवॉक आज ट्रैफिक के लिए परेशानी का सबब बन गया है, इसे तोड़ने से ही शहर के लोगों को राहत मिलेगी।

नायक के मुताबिक जिस जगह पर इस स्काईवॉक का निर्माण किया जा रहा था। यह रायपुर की व्यस्त सड़कों में शामिल है। शहर के ट्रैफिक को देखते हुए अगर इस जगह पर फ्लाईओवर बनाया जाता तो यह जनता के लिए फायदेमंद होता। अगर इसे बनवाना होता तो विभाग पहले इसकी उपयोगिता का सर्वे कर लेता। जेसीसीजे के प्रवक्ता ने कहा कि स्काईवॉक का निर्माण रोक दिया गया है। 16 जुलाई 2019 को लोक निर्माण मंत्री ने विधानसभा को बताया था कि स्काईवॉक के निर्माण पर 77 करोड़ 10 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे. इसका 50 प्रतिशत निर्माण पूरा हो चुका है और 36 करोड़ 44 लाख रुपये इस पर खर्च किए जा चुके हैं। भगवान नायक ने कहा कि स्काईवॉक मुद्दे पर एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने और राजनीति करने के बजाय बेहतर होगा कि दोनों राष्ट्रीय दल यातायात को आसान बनाने के लिए स्थायी समाधान पर विचार करें.

विधायक बार-बार इस मुद्दे को उठा रहे हैं

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. रेणु जोगी ने निर्माण के साथ-साथ स्काईवॉक पर भी सवाल उठाए. उन्होंने तत्कालीन भाजपा सरकार को कई पत्र भी लिखे, विधानसभा में सवाल उठाए, कई सुझाव दिए, ध्यान आकर्षित किया, लेकिन स्काई वॉक का स्थायी समाधान आज तक नहीं मिल पाया है. 2019 में जनता कांग्रेस नेता धर्मजीत सिंह ने इसे तोड़ने की बात कही थी. कांग्रेस विधायकों ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे।

यह मुद्दा अब फिर क्यों उठाया गया?

दरअसल, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने 9 सितंबर को रायपुर में आयोजित श्रमिक सम्मेलन में कांग्रेस को स्काईवॉक के निर्माण पर रोक लगाने का सवाल उठाकर घेरने की कोशिश की थी. अब कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन देकर जांच की मांग की है. स्काईवॉक के निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप इस शिकायत में तत्कालीन लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत पर सीधे तौर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया है. मूणत ने सरकार को सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच कराने की चुनौती भी दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *