रोज 5 हजार बैठक और 3 हजार दंड, जानें कौन थे गामा पहलवान

गामा पहलवान का गूगल ने डूडल बनाकर दिया सम्मान

आज द ग्रेट गामा का गामा पहलवान की 144 वीं जयंती है.

भारत में यूं तो बड़े-बड़े पहलवान हुए. लेकिन जो मुकाम और रुतबा 5 फीट 8 इंच कद वाले गामा पहलवान का था

कुश्ती की दुनिया में गामा पहलवान का कद कितना बड़ा था, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जन्मदिन के मौके पर गूगल ने भी डूडल बनाकर उन्हें सम्मान दिया है

आज ही के दिन यानी 22 मई, 1878 को अमृतसर के जब्बोवाल गांव में द ग्रेट गामा या गामा पहलवान का जन्म हुआ था

गामा पहलवान पहली बार दुनिया की नजर में आए, तब उनकी उम्र केवल 10 बरस थी

साल था 1888 का. तब जोधपुर में सबसे ताकतवर शख्स की खोज के लिए एक प्रतियोगिता हुई थी. इसमें 400 से अधिक पहलवानों ने हिस्सा लिया था और गामा अंतिम 15 में शामिल थे

5 हजार बैठक और 3 हजार दंड किया करते थे. 30 से 45 मिनट तक एक डोनट के आकार का उपकरण पहनकर, वो ट्रेनिंग करते थे, जिसका वजन 100 किलो था