बीड (महाराष्ट्र) आपने अक़्सर इंसानों के बीच खूनी जंग देखी और सुनी होगी। लेकिन पिछले कुछ समय से एक ऐसी ख़बर महाराष्ट्र से निकलकर आ रही। जो लोगों को अचंभित कर रही है। जी हां महाराष्ट्र के बीड जिले में बंदरों और कुत्तों के बीच एक न खत्म होने वाली जंग चल रही है। वैसे बंदर और कुत्तों के बीच दुश्मनी वाला भाव देखने को हमेशा मिलता रहा है, लेकिन बीड में स्थिति कुछ ऐसी हो गई है कि ये दोनों एक-दूसरे की जान लेने पर उतारू हैं।

Business Idea in Hindi: बस एक बार शुरू करें यह बिज़नेस, हर महीने होगी बंपर कमाई, मात्र 5000 से होगी इस बिज़नेस की शुरुआत

ऐसे में अब तो लोग यह भी कयास लगाए रहें हैं कि क्या करीब 3 महीनो से कुत्तों और बंदरों के बीच चली आ रही जंग अब थमेगी भी या नहीं? वहीं अब दूसरी ओर 250 से अधिक पिल्लों की हत्या में शामिल दो खूंखार बंदरों को वन विभाग की एक टीम ने पकड़ा है और बता दें कि जानवरों में यह गैंगवार उस समय शुरू हुई थी जब यहां के एक गांव में कुछ कुत्तों ने बंदर के एक बच्चे को मार डाला था।

बता दें कि उसके बाद से ऐसी बदले की भावना बंदरों में जागी कि वे इंसानी फितरत से कहीं न कहीं आगे निकल गए और इन बंदरों पर आरोप है कि पिछले कुछ महीनों के दौरान ये बंदर कुछ पिल्लों को कथित तौर पर अपने साथ ले गए। यहीं नहीं ये उन्हें पेड़ों या छतों पर रख देते थे और इसमें कुछ पिल्लों की वहां बिना भोजन या वहां से नीचे गिरने की वज़ह से मौत हो जाती है।

31 दिसंबर से पहले निपटा लें ये 4 जरूरी काम, नहीं तो नए साल में होंगे परेशान, 1 जनवरी 2022 से बदल जायेगे नियम

वहीं बता दें कि इस मामले को लेकर अब अधिकारियों का बयान भी सामने आया है। उन्होंने बताया कि इन बंदरों को शनिवार को पकड़ा गया और उन्हें उनके प्राकृतिक प्रवास में स्थानांतरित करने का काम किया गया है। इसके अलावा लावूल गांव के एक निवासी ने दावा किया कि, ” ये दो बंदर कम से कम 200 पिल्लों को कथित तौर पर उठाकर ले गए थे और उन पिल्लों की मौत भी हो चुकी है।”

हालांकि, रेंज वन अधिकारी अमोल मुंडे ने इस मामले पर कहा है कि इस गांव से केवल 3 से 4 ही ऐसी घटनाएं प्रकाश में आई है और इसमें पिल्लों की इन दो बंदर द्वारा ले जाये जाने के बाद मौत हुई है।

Kanpur IT Raid on Piyush Jain: कानपुर के पीयूष जैन के घर से 150 नहीं, 177 करोड़ मिले, क्या हैं आरोप, अफसर बोले- जिंदगी में इतना कैश नहीं देखा

कैसे हो जाती थी पिल्‍लों की मौत

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बंदर पिल्लों को ले जाते थे, जो उनकी ‘आदत’ में शुमार था और वे पिल्लों को छतों या ऊंचे पेड़ों पर रखते थे। ऐसे में पिल्‍लों को ऐसी जगह जिंदा रहने के लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ती थी और वे दम तोड़ देते थे। इसके अलावा यदि कोई पिल्ला इन दो बंदरों से भागता था तो ये बंदर उन्हें ऊंचाई से नीचे फेंक देते थे। जिसकी वज़ह से पिल्लों की मौत हो जाती थी।

मध्य प्रदेश के सतना जिले में आकाशीय बिजली गिरने से युवक की मौत, साथी गंभीर रूप से घायल

वहीं आख़िर में बता दें कि मीडिया की विभिन्न रिपोर्ट्स के मुताबिक बाद में इन बंदरों ने स्कूल जाने वाले बच्चों पर भी हमला करना शुरू कर दिया। जिसके बाद लोगों ने इसकी शिकायत वन विभाग से की। इतना ही नहीं यह घटना इन दिनों इतनी लाइम लाइट में रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.